गीत नया गाता हूँ ।

vidur

मुंबई  –  महाराष्ट्र  –  भारत          अप्रैल १०, २०१६          अपराह्न १.३५

 

…………………………….. गीत नया गाता हूँ ……………………………

टूटे हुए तारों से फूटे वासन्ती स्वर,
पत्थर की छाती में उग आया नव अंकुर,
झरे सब पीले पात,
कोयल की कुहुक रात,
प्राची में अरुणिमा की रेख देख पाता हूँ
गीत नया गाता हूँ
टूटे हुए सपने की सुने कौन सिसकी?
अन्तर को चीर व्यथा पलकों पर ठिठकी
हार नहीं मानूँगा,
रार नई ठानूँगा,
काल के कपाल पर लिखता-मिटाता हूँ
गीत नया गाता हूँ !!

…………………… अटल बिहारी वाजपेयी ………………….

 

[ श्री अटल बिहारी वाजपेयी की कविता साभार उद्धृत ]

 

Vidur Acting Institute Logo

विदुर

मुंबई  – महाराष्ट्र  – भारत

www.vidur.co.in

www.viduractinginstitute.com

www.facebook.com/vidur.chaturvedi

www.vidurfilms.com

www.youtube.com/ividur

www.twitter.com/VidurChaturvedi

google.com/+VidurChaturvedi

Advertisements