एक नयी कार…?

vidur
देवरिया  –  उत्तर प्रदेश  –  भारत           अप्रैल 25 , 2013          रात्रि  00.15
 ……………………एक नयी कार…? …………………..
एक नयी कार…? आज कल जिसने बड़ी धूम सी मचाई है
सुना है कि शहर में एक कार नई आई है।

इसका मॉडल… अत्यंत ही खास है
क्योंकि इसे खरीदने का प्राधिकार…..
तो बस “लाचार व्यक्ति” के पास है।

इस ब्रांड की एजेन्सियां … जमीन पे नहीं,
तंग “खयाली” गलियों मे हैं …
मगर खरीद-दारों के मुकाम …
उल्लसित,कुसुमित,सकुचाई “कलियों” मे हैं।

सेल्समेन को देखकर… पहले तो,
कुछ भी ज़ाहिर नहीं होता…क्योकि…
यदि ऐसा हो जाये तो …
वो अपने “फन” मे माहिर नहीं होता।

खरीद-दारों के भी विभिन्न भेद …
‘आह’ है, ‘उफ़्फ़’ है, ‘आउच’ है ,
और एक विशेष दर्जा —
जिसका नाम ‘कास्टिंग काउच’ है।

सोच रहे होंगे न आप …
कि अब तक इसे क्यों नहीं देखा है ?
अरे भई, ‘कांसेप्ट’ कार है …
जिसके हर “रंग” मे धोखा है ।

चलिये, अब मैं खुद ही ये पर्दा हटा दूँ ,
क्योंकि हर हृदय बेकरार है …
दोस्तों ये और कुछ नहीं, …बस
मन आहत करने वाला एक व्यभिचार है,

विकृत ख़यालों का वंशज…
गुनाह कि जवां होती संतान …
माँ, बहन, मासूम बेटियों का घातक …
जिसका नाम….. “बलात्कार” है ।
हाँ …यही वो नयी कार है
>
>
और अंत मे सबसे निवेदन……..
>
एजेंसी वालों—बंद करो यह व्यापार,
सेल्समेन —–ग्राहक मत फंसाओ यार,
मीडिया———न करो झूठा प्रचार,
आप सब——-जरा सतर्क…खबरदार,
खरीद-दार—– न खोजिए , न खरीदिए “नई कार”
नमस्कार… नमस्कार …नमस्कार।

…………………….अजय ………………………

 Facebook.com/Ajay Bharti Goswami के सौजन्य से

विदुर

मुंबई  – महाराष्ट्र  – भारत

www.vidur.co.in

www.kreatingcharakters.net

www.facebook.com/VidursKreatingCharacters

www.facebook.com/vidur.chaturvedi

www.vidurfilms.com

www.youtube.com/ividur

www.twitter.com/VidurChaturvedi

www.jaibhojpuri.com/profile/VidurChaturvedi

Advertisements

एक चेहरे पर कई चेहरे सजा लेते हैं लोग ……

vidur

देवरिया  – उत्तर प्रदेश – भारत           अप्रैल 23 , 2013          रात्रि 07.30

……………………. ग़ज़ल ……………………..

जब भी चाहें एक नई सूरत बना लेते हैं लोग
एक चेहरे पर कई चेहरे सजा लेते हैं लोग

मिल भी लेते हैं गले से अपने मतलब के लिए
आ पड़े मुश्किल तो नज़रें भी चुरा लेते हैं लोग

है बजा उनकी शिकायत लेकिन इसका क्या इलाज
बिजलियाँ खुद अपने गुलशन पर गिरा लेते हैं लोग

हो खुशी भी उनको हासिल ये ज़रूरी तो नहीं
गम छुपाने के लिए भी मुस्कुरा लेते हैं लोग

ये भी देखा है कि जब आ जाये गैरत का मुकाम
अपनी सूली अपने काँधे पर उठा लेते हैं लोग

 ………………………क़तील शिफाई ………………..

Facebook के सौजन्य से

विदुर

मुंबई  – महाराष्ट्र  – भारत

www.vidur.co.in

www.kreatingcharakters.net

www.facebook.com/VidursKreatingCharacters

www.facebook.com/vidur.chaturvedi

www.vidurfilms.com

www.youtube.com/ividur

www.twitter.com/VidurChaturvedi

www.jaibhojpuri.com/profile/VidurChaturvedi

राम की शक्ति पूजा

vidur
देवरिया  – उत्तर प्रदेश – भारत           अप्रैल  22 , 2013            रात्रि  07.15
…………………………………. राम की शक्ति पूजा …………………………..
धिक् जीवन को जो पाता ही आया है विरोध,
धिक् साधन जिसके लिए सदा ही किया शोध

जानकी! हाय उद्धार प्रिया का हो न सका;

वह एक और मन रहा राम का जो न थका;

जो नहीं जानता दैन्य, नहीं जानता विनय,

कर गया भेद वह मायावरण प्राप्त कर जय,

बुद्धि के दुर्ग पहुँचा विद्युत-गति हतचेतन

राम में जगी स्मृति हुए सजग पा भाव प्रमन।

“यह है उपाय”, कह उठे राम ज्यों मन्द्रित घन-

“कहती थीं माता मुझे सदा राजीव-नयन।

दो नील कमल हैं शेष अभी, यह पुरश्चरण

पूरा करता हूँ देकर मात एक नयन।”

कहकर देखा तूणीर ब्रह्मशर रहा झलक,

ले लिया हस्त लक-लक करता वह महाफलक;

ले अस्त्र थाम कर, दक्षिण कर दक्षिण लोचन

ले अर्पित करने को उद्यत हो गये सुमन

जिस क्षण बँध गया वेधने को दृग दृढ़ निश्चय,

काँपा ब्रह्माण्ड, हुआ देवी का त्वरित उदय

“साधु, साधु, साधक धीर, धर्म-धन-धान्य राम!”

कह, लिया भगवती ने राघव का हस्त थाम

देखा राम ने, सामने श्री दुर्गा, भास्कर

वामपद असुर स्कन्ध पर, रहा दक्षिण हरि पर,

ज्योतिर्मय रूप, हस्त दश विविध-अस्त्र सज्जित,

मन्द स्मित मुख, लख हुई विश्व को श्री लज्जित

हैं दक्षिण में लक्ष्मी, सरस्वती वाम भाग,

दक्षिण गणेश, कार्तिक बायें रण-रंग-राग,

मस्तक पर शंकर! पदपद्मों पर श्रद्धाभर

श्री राघव हुए प्रणत मन्द-स्वर-वन्दन कर।

“होगी जय, होगी जय, हे पुरूषोत्तम नवीन।”

कह महाशक्ति राम के बदन में हुई-लीन।…

……………………………….सूर्यकांत त्रिपाठी ” निराला ” ………………………………

विदुर

मुंबई  – महाराष्ट्र  – भारत

www.vidur.co.in

www.kreatingcharakters.net

www.facebook.com/VidursKreatingCharacters

www.facebook.com/vidur.chaturvedi

www.vidurfilms.com

www.youtube.com/ividur

www.twitter.com/VidurChaturvedi

www.jaibhojpuri.com/profile/VidurChaturvedi

… क्या दुःख है, समंदर को बता भी नहीं सकता

vidur

मुंबई  – महाराष्ट्र  – भारत           अप्रैल 18 , 2013           अपराह्न 02.35

… क्या दुःख है, समंदर को बता भी नहीं सकता
आँसू की तरह आँख तक आ भी नहीं सकता

तू छोड़ रहा है, तो ख़ता इसमें तेरी क्या
हर शख़्स मेरा साथ, निभा भी नहीं सकता

प्यासे रहे जाते हैं जमाने के सवालात
किसके लिए ज़िन्दा हूँ, बता भी नहीं सकता

घर ढूँढ रहे हैं मेरा , रातों के पुजारी
मैं हूँ कि चराग़ों को बुझा भी नहीं सकता

वैसे तो एक आँसू ही बहा के मुझे ले जाए
ऐसे कोई तूफ़ान हिला भी नहीं सकता…

………………………वसीम बरेलवी………………………

Facebook  के सौजन्य से  – ग़ज़ल

विदुर

मुंबई  – महाराष्ट्र  – भारत

www.vidur.co.in

www.kreatingcharakters.net

www.facebook.com/VidursKreatingCharacters

www.facebook.com/vidur.chaturvedi

www.vidurfilms.com

www.youtube.com/ividur

www.twitter.com/VidurChaturvedi

www.jaibhojpuri.com/profile/VidurChaturvedi