साथी , घर – घर आज दीवाली !

मुंबई  – महाराष्ट्र  – भारत            नवम्बर 14 , 2012             रात्रि 10.45

दीवाली के अवसर पर मैंने श्री हरिवंश राय बच्चन की पुस्तक ” निशा निमंत्रण “ की एक कविता ” साथी घर – घर आज दिवाली ” अपने फेसबुक पर उद्धृत की थी । सम्पूर्ण कविता यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ ।

फैल गयी दीपों की माला ,

मंदिर – मंदिर में उजियाला ,

किन्तु हमारे घर का देखो , दर लाला दीवारें काली !

साथी घर – घर आज दीवाली !

हास उमंग ह्रदय में भर – भर ,

घूम रहा गृह – गृह , पथ – पथ पर ,

किन्तु हमारे घर के अन्दर डरा हुआ सूनापन खाली  !

साथी घर – घर आज दीवाली !

आँख हमारी नभ मंडल पर ,

वही हमारा नीलम का घर ,

दीप – मालिका मना रही है रात हमारी तारों वाली !

साथी , घर – घर आज दीवाली !

……………….. हरिवंश राय  बच्चन

 

विदुर

मुंबई  – महाराष्ट्र  – भारत

www.vidur.co.in

www.kreatingcharakters.net

www.vidurfilms.com

www.twitter.com/VidurChaturvedi

www.jaibhojpuri.com/profile/VidurChaturvedi

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s